बिहार के औधोगिक पिछड़ेपन के कारण का वर्णन करें |

  • बिहार के औधोगिक पिछड़ेपन के कारण का वर्णन करें | 

विभाजन के बावजूद बिहार में औद्योगिक विकास के प्रबल संभावना है | उद्योगों की स्थापना के लिए आवश्यक तत्व में जल संसाधन, उर्वर मुद्रा,  सस्ता श्रमिक, विस्तृत बाजार आदि आसानी से उपलब्ध है | उत्तर बिहार की नदियों में जहां जल-विद्युत की अपार संभावना है, वहीं बिहार के मैदानी भागों में कृषि आधारित उद्योगों के लिए कच्चा माल प्रदान करने की अपार क्षमता है |  दक्षिणी पठारी भाग पाइराइट, चूना-पत्थर, बॉक्साइट, चीनी मिट्टी, सिलका जैसे खनिजों की प्राप्ति होती है, जिसमें खनिज आधारित उद्योगों को बढ़ावा देने की अपार संभावना है | फिर भी बिहार औद्योगिक दृष्टिकोण से पिछड़ा हुआ है |

बिहार के औधोगिक पिछड़ेपन के कारण का वर्णन करें |
बिहार के औधोगिक पिछड़ेपन के कारण का वर्णन करें |

 इसके कई कारण है जैसे:

(i) आधारिक वातावरण का अभाव |

(ii) कृषि पर अत्यधिक निर्भरता की प्रवृत्ति |

(iii) खनिजों की कमी |

(iv) छोटे और लघु उद्योगों पर ध्यान नहीं दिया जाना |

(v) पुराने मशीन और तकनीक आज भी प्रयोग में लाए जाते हैं |

(vi) पूंजी की कमी और विनिवेश का अभाव |

(vii) विस्तृत बाजार का अभाव |

(viii) औद्योगिक आधारभूत संरचना का अभाव जैसे: सड़क, बिजली आपूर्ति, संचार साधन, प्रशासनिक कमी आदि |

(ix) प्रबंधन की समस्या |

(x) व्यापक प्रांतीय औद्योगिक नीति का भाव बिहार में 1995 का औद्योगिक नीति का पालन हो रहा है और बिहार राष्ट्रीय औद्योगिक नीति का अनुसरण करने में अक्षम रहा है | 

Leave a Reply

Your email address will not be published.