लघु उद्योग क्या है | भारतीय अर्थव्यवस्था में इसके महत्व की विवेचना करें |

लघु उद्योग क्या है |  भारतीय अर्थव्यवस्था में इसके महत्व की विवेचना करें | 

 भारत एक वृहद जनसंख्या वाला देश है, जिसमें बहुसंख्यक आबादी रोजगार विहीन है | भारी उद्योगों की इतनी क्षमता नहीं है कि सभी को रोजगार दे सके, लेकिन लघु क्षेत्र में रोजगार विधि की असीम संभावना छिपी है | इसी क्षमता को देखकर स्वतंत्रता के समय से ही लघु उद्योग को बढ़ावा देने का प्रयास किया गया, जिससे इसकी संख्या में वृद्धि होती गई (115.22 लाख )

लघु उद्योग क्या है | भारतीय अर्थव्यवस्था में इसके महत्व की विवेचना करें |
लघु उद्योग क्या है | भारतीय अर्थव्यवस्था में इसके महत्व की विवेचना करें |

लघु उद्योग को समय-समय पर पूंजी तथा श्रम के आकार पर परिभाषित किया जाता रहा है | ऐसे सभी औद्योगिक प्रतिष्ठान जिसमें पूंजी तथा श्रम का आकार छोटा हो, लघु उद्योग कहलाता है |

 एसपी गुप्ता कमेटी लघु उद्योग को पूंजी के आधार पर तीन वर्गों में बांटा है|

(i) सूक्ष्म लघु उद्योग : इसमें 10 लाख से कम पूंजी निवेश वाला आर्थिक संसाधन रखा गया है | लघु उद्योगों में 98% संख्या लघु उद्योग के है |

(ii) छोटे आकार के लघु उद्योग :  इसमें वे उद्योग शामिल है, जिसमें 10 लाख से एक करोड़ रुपए तक का निवेश किया गया है |

(iii) मध्यम आकार का लघु उद्योग :  इसमें एक करोड़ से 10 करोड़ तक की निवेश वाले औद्योगिक प्रतिष्ठान को शामिल किया गया है |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.