Hindi Poem: मँजिले बड़ी जिद्दी होती हैं, हासिल कहाँ नसीब से

Leave a Reply

Your email address will not be published.