Love Shayari In Hindi : जो ना मिले उसी की चाहत क्यों होती हैं, जो

Love Shayari In Hindi : जो ना मिले उसी की चाहत क्यों होती हैं..…
जो मिल जाए उसके लिए दिल में चाहत क्यों नहीं होती..

जिसे समझते हैं वो हमे समझता कहा हैं…
जो हमे समझता है उसे हम कहा समझते हैं…..

जो ना मिले उसके पीछे भागते हैं….
जो मिल जाए उसकी कदर कहां होती हैं…

CHAIRMAN & MANAGING DIRECTOR

तुम्हें दिल का हाल बताना चाहता हूं

चल रहे हैं जो ख्यालात सुनाना चाहता हूं

घुमा फिरा के बात करूं या सीधा बोल दूं

सुन लो साहेब तुम्हें दिल में छुपाना चाहता हूं

कुछ तो काम ऐसा हो जो मेरे कहने से हो

बस इतना सा तुम पे हक जताना चाहता हूं

खास थे खास हो खास ही रहोगे खलनायक

दिल ए नादान है तुम्हारा, ये तुम्हारे दिल को बताना चाहता हूं…

म कहाँ किसी के लिए खास हैं, ये तो हमारे दिल का अंधविश्वास हैं

By: Dayanand Sir Alias Deepak Sir

Leave a Reply

Your email address will not be published.